परमात्मा का ऊंचा(prmatma ka uncha ), part5

जा दूषपतो से जागरूक रहे । पत: यज्ञ का रूपान्तर यह भी है कि यजमान को जागरूक रहना चाहिए । जागरूक रहने का अभिप्राय यह है कि वह नाना प्रकार क...

0 Comments

परमात्मा का ऊंचा(prmatma ka uncha ), part4

रही। पर भ प [राज के पुत्र / गोष्ट ४ा गया ग्री7 21 पश्चात उस गर्भ, विर्ह सो गया वयव यह मृत्यु का प्राजा उग विरह में है। मेरी अन्तरात्मा शा...

0 Comments

परमात्मा का ऊंचा(prmatma ka uncha ), part3

का विधान भौतिक-यज्ञ वो महपियों द्वारा प्रतिपादित विधि-विधान में रखा चाहिए । तभी उससे प्रजा को लाभ हो सकता है । यश करने से पूर्व गुन्दर त...

0 Comments

परमात्मा का ऊंचा(prmatma ka uncha )part2

इसी प्रकार एक नदी ऐसी है जिसका सम्बन्ध प्राणी-मंडल से है। एक और नाड़ी ऐसी है जिसका सम्बन्ध ध्रुव-मण्डल से है । जब इस नाड़ी के द्वारा १-स...

0 Comments

परमात्मा का ऊंचा(prmatma ka uncha )

नुन र दन करके इन तोक से स्यूल यन्नि क द्वारा जाता है। वह सुदमा रूप नरमता को प्राप्त होता है अठारहवां पुष्प १७-३-७२ ई०) यज्ञश ताला में ज...

0 Comments